54d5 456sg4654f d654f6s5g s6f6d46d 4s

Thursday, June 7, 2012

Gunje Kahi Par Shankh.. and Waqt aa gaya hain..


गुजे कही पर शंख , कही पे अजान है
बाइबल है,ग्रंथ शाहब है, गीता का ज्ञान है.
दुनिया मे कही और ये मंजर नही नशीब,
दिखाओ जमाने को ये हिंदुस्तान है|

वक्त आ गया है अब दुनिया को,साफ़ साफ़ कहना होगा.
देश प्रेम की धबल धार मैं,हर मन को वहना होगा.
जिसे तिरंगा लगे पराया, मेरा देश छोड जाये.
हिन्दुस्तान में हिन्दुस्तानी बनकर ही रहना होगा|
Reactions:

0 comments:

Post a Comment